Pt. Ramadhar J.Tiwari College of Polytechnic

ITI में कितने विषय होते हैं? | How many subjects are there in ITI

यदि आप भी आईटीआई करना चाहते हैं तो आपके मन में बहुत सारे सवाल होंगे, जैसे कि ITI में कितने विषय होते हैं? (ITI me kitne subject hote hai) हमें ITI में कौन से विषय लेने चाहिए? आपकी जानकारी के लिए,–

आईटीआई के विषय के नाम?

  • इलेक्ट्रीशियन
  • फिटर
  • फाउंड्री मैन
  • बुक बाइंडर
  • प्लंबर
  • वायरमैन
  • मशीनिंस्ट

आईटीआई में 100 से भी ज्यादा कोर्स हैं। आप अपने जरूरत और पसंद के अनुसार किसी भी कोर्स को कर सकते हैं।

ITI (आईटीआई) कैसे करें?

आप सबसे पहले यह जानना चाहेंगे कि ITI कब कर सकते हैं,तो दोस्तों मैं आपको बता दूं कि आप ITI दसवीं और बारहवीं के बाद कभी भी कर सकते हैं।
ITI कॉलेज में एडमिशन दो तरह से होते हैं । सबसे पहला तरीका तो वह है इंट्रेंस एग्जाम की मदद से और दूसरा तरीका है Merit ki मदद से।
Entrance Exam – हमारे देश में ऐसे बहुत से ITI कॉलेज ऐसे हैं, जिसमें कि अगर आप अपना एडमिशन पाना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले एक एंट्रेंस एग्जाम देना होगा उसके बाद ही आप उसमें अपना एडमिशन ले सकते हैं ।
Merit List – कुछ कॉलेज ऐसे भी है इसमें कि आपको किसी भी प्रकार की कोई भी एंट्रेंस एग्जाम देने की जरूरत नहीं पड़ती है। वहां आपकी परीक्षा के मार्क्स के आधार पर ही आपका सलेक्शन हो जाता है।
अगर मैं आपसे बात करूं परीक्षा के मार्क्स का तो इससे मेरा मतलब क्लास 10th से है क्योंकि अगर मैरिट के अनुसार आपका सलेक्शन होना होगा तो आपका दसवीं का नंबर देखा जाएगा।
परीक्षा के बाद
एक बार अगर आप आईटीआई के इंट्रेंस एग्जाम को पास कर लेते हैं तो उसके बाद आपको काउंसलिंग के लिए बुलाया जाता है और वहां आप से पूछा जाता है कि आप ITI में कौन से कोर्स लेना चाहते हैं या ITI में कौन सा कोर्स करना चाहते हैं।
काउंसलिंग पूरी होने के बाद आप का एडमिशन ITI कॉलेज में हो जाता है और आपकी पढ़ाई शुरू हो जाती है। जानकारी के लिए मैं आपको बता दूं कि ITI कोर्स 6 महीने से लेकर 3 साल के बीच होती है । यह पूरी तरह से इस बात पर निर्भर करता है कि आप ITI कौन से कोर्स के साथ कर रहे हैं ?

ITI में कितने विषय होते हैं?

दोस्तों वैसे तो आईटीआई कॉलेज में बहुत सारे कोर्स होते हैं यहां आपको 100 से भी ज्यादा कोर्स देखने को मिलेंगे लेकिन जरूरी नहीं है कि जिस कॉलेज में आप अपना एडमिशन कराना चाहते हैं उस कॉलेज में यह सारे कोर्स उपलब्ध हों ।
हो सकता है कि इसमें से कुछ ही कोर्स आपको अपने कॉलेज में देखने को मिले तो कृपया करके एडमिशन लेने से पहले यह सुनिश्चित कर लें कि आप जिस भी कोर्स को करना चाहते हैं क्या वह कोर्स आपके कॉलेज में अवेलेबल है यदि है तो कीजिए और यदि अवेलेबल नहीं है तो आप दूसरी कॉलेज में एडमिशन लेने की कोशिश कर सकते हैं या फिर जो भी कोर्स अवेलेबल है उसमें से ही अपने लिए एक अच्छा सा कोर्स देख सकते हैं।

ITI (आईटीआई) करने के बाद नौकरी (Jobs after ITI)

आईटीआई करने के बाद नौकरी मिलने की संभावना बहुत हद तक बढ़ जाती है ,क्योंकि आईटीआई कॉलेज में हमें थ्योरी से ज्यादा प्रैक्टिकल पर ध्यान दिया जाता है यानी कि वहां आपको किताबी ज्ञान कम और प्रैक्टिकल ज्ञान ज्यादा दिया जाता है। इसी वजह से आईटीआई के छात्रों में किसी भी काम करने की क्षमता और तरीका बहुत ज्यादा अलग और अच्छा होता है।
आज के समय में जितने भी बड़े-बड़े कंपनियां हैं वह कोशिश करते हैं कि जब भी हुए किसी को नौकरी दें तो उनके अंदर काम करने की योग्यता होनी चाहिए जो कि आईटीआई के छात्रों में बहुत ज्यादा होती है क्योंकि उन्हें पहले ही इसकी ट्रेनिंग दी जाती है । अगर आप ITI करते हैं तो आपकी नौकरी मिलने की संभावना बहुत ज्यादा बढ़ जाती है।
अगर आप आईटीआई करने के बाद नौकरी नहीं करना चाहते हैं तो आप अपना खुद का व्यवसाय भी शुरू कर सकते हैं और यह आपके लिए बहुत ज्यादा आसान भी हो जाएगा, क्योंकि आपने पहले ही अलग अलग तरह से अपने पसंदीदा कोर्स की ट्रेनिंग ली हुई है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.